आगामी आयोजन

 वर्षा वन अनुसंधान संस्थान, जोरहाट (असम) 5 से 17 सितंबर, 2022 तक किसानों के लिए अगरवुड की खेती और कृत्रिम टीकाकरण के लिए गैर सरकारी संगठनों, एसएचजी और जेएफएमसी, स्वायत्त / विकास परिषदों, उद्यमियों, छात्रों को आमंत्रित करता है  updated: 18 August 2022

 वर्षा वन अनुसंधान संस्थान, जोरहाट (असम) 5 से 17 सितंबर, 2022 तक बांस हस्तशिल्प पर कौशल विकास प्रशिक्षण के लिए कारीगरों, एसएचजी, गैर सरकारी संगठनों के सदस्यों, युवाओं आदि को आमंत्रित करता है  updated: 16 August 2022

 उष्णकटिबंधीय वन अनुसंधान संस्थान, जबलपुर आपको "आजीविका सुरक्षा के लिए गैर इमारती लकड़ी वन उत्पाद (एनटीएफपी) / औषधीय और सुगंधित पौधों (एमएपी) के मूल्य संवर्धन और विपणन" (एनसीवीएएम - 2022) पर दूसरे राष्ट्रीय सम्मेलन के लिए आमंत्रित करता है  updated: 04 August 2022

 वानिकी प्रशिक्षण और क्षमता निर्माण की छत्र योजना के अन्तर्गत अन्य सेवाओं के कार्मिक हेतु प्रशिक्षण कार्यक्रम "आजीविका सृजन के लिए न्यून उपयोगित फलों का मूल्यवर्धन" वन अनुसंधान केंद्र . इको.पुनर्वास प्रयागराज द्वारा   updated: 20 July 2022

 वन अनुसंधान संस्थान, देहरादून के वर्ष 2022 के लिए लघु अवधि प्रशिक्षण पाठ्यक्रम कैलेंडर  updated: 22 June 2022

भा.वा.अ.शि.प. के संस्थानों द्वारा अद्यतन

 शुष्क वन अनुसंधान संस्थान, जोधपुर में 15 अगस्त, 2022 को 76वें स्वतंत्रता दिवस समारोह पर एक रिपोर्ट  श.व.अ.सं.:   18 August 2022

 वर्षा वन अनुसंधान संस्थान, जोरहाट में 15 अगस्त 2022 को 76वें स्वतंत्रता दिवस समारोह पर एक रिपोर्ट  व.व.अ.सं.:   18 August 2022

  वन अनुसंधान केंद्र - आजीविका विस्तार, अगरतला में 15 अगस्त, 2022 को 76वें स्वतंत्रता दिवस समारोह पर एक रिपोर्ट  व.अ.कें.-आ.वि.:   16 August 2022

 हिमालय वन अनुसंधान संस्थान, शिमला में 15 अगस्त, 2022 को 76वें स्वतंत्रता दिवस समारोह पर एक रिपोर्ट   हि.व.अ.सं.:   16 August 2022

 वन अनुसंधान केंद्र - इको-पुनर्वास, प्रयागराज में "प्रकृति" के तहत पर्यावरण जागरूकता कार्यक्रम पर एक रिपोर्ट  व.अ.कें. ई.पु.:   11 August 2022

 हिमालय वन अनुसंधान संस्थान, शिमला द्वारा आयोजित वन महोत्सव 2022 पर एक रिपोर्ट   हि.व.अ.सं.:   10 August 2022

 वन उत्पादकता संस्थान, रांची द्वारा 27 जुलाई 2022 को जवाहर नवोदय विद्यालय (जेएनवी) लोहरदगा में ''प्रकृति'' कार्यक्रम पर एक रिपोर्ट  व. उ. सं.:   10 August 2022

 आजादी का अमृत महोत्सव के तहत 27 जुलाई 2022 को जदुआ, हाजीपुर में वन उत्पादकता संस्थान, रांची द्वारा आयोजित "औषधीय पौधों द्वारा आय सृजन" पर एक दिवसीय प्रशिक्षण पर एक रिपोर्ट  व. उ. सं.:   10 August 2022

 वन उत्पादकता संस्थान, रांची द्वारा दिनांक 27 जुलाई 2022 को जादुआ, हाजीपुर में बांस सामान्य सुविधा केंद्र (सीएफसी) के उद्घाटन पर एक रिपोर्ट  व. उ. सं.:   10 August 2022

 वन जैव विविधता संस्थान, हैदराबाद ने 06 जुलाई 2022 को विश्व ज़ूनोज दिवस एक कार्यक्रम आयोजित किया  व.जै.सं.:   05 August 2022

 वन जैव विविधता संस्थान, हैदराबाद में विश्व प्रकृति संरक्षण दिवस समारोह पर एक रिपोर्ट  व.जै.सं.:   05 August 2022

 वन जैव विविधता संस्थान, हैदराबाद में विश्व जनसंख्या दिवस समारोह पर एक रिपोर्ट  व.जै.सं.:   05 August 2022

  एचपीएलसी और जीसीएमएस/एमएस पर व्यावहारिक प्रशिक्षण पर एक रिपोर्ट: इंस्ट्रुमेंटेशन, सिद्धांत, कार्य और अनुप्रयोग” 27 जुलाई, 2022 को आईएफजीटीबी, सी0इम्बटूर में आयोजित   व.आ.वृ.प्र.सं.:   05 August 2022

 वर्षा वन अनुसंधान संस्थान, जोरहाट (असम) ने 6 सप्ताह का "वॉल्यूम और ऊपर की जमीन के आकलन के लिए एलोमेट्रिक मॉडल तैयार करना" पर कौशल इंटर्नशिप 16 जून, 2022 से 31 जुलाई 2022 के दौरान, गैर-विनाशकारी दृष्टिकोण का उपयोग करते हुए खड़े पेड़ों का बायोमास, प्रशिक्षण आयोजित किया  व.व.अ.सं.:   05 August 2022

 वर्षा वन अनुसंधान संस्थान के अधिकारियों के सिक्किम वन विभाग के दौरे पर एक रिपोर्ट  व.व.अ.सं.:   04 August 2022

और पढ़ें

भा.वा.अ.शि.प.की प्रौद्योगिकी

  जूनीपेरस पॉलीकार्पस (हिमालयन पेन्सिल सीडार) की बीज प्रौद्योगिकी

जुनिपेरस पाॅलीकार्पोस, सी.कोच उत्तर पश्चिम हिमालयन क्षेत्र का एक महत्वपूर्ण देशज शंकु वृक्ष है, जिसे सामान्यतः हिमालयन पेंसिल सिडार के नाम से जाना जाता है। इस प्रजाति के बीजों में प्रसुप्ति होती है, जो इसके अंकुरण को प्रभावित करती है। 

  कुटकी बहुगुणन हेतु वृहद-प्रसार तकनीक

पिकोरिजा कुरूआ, रायल एक्स बेंथ जिसे सामान्यतः कुटकी के नाम से जाना जाता है, यह पश्चिमी हिमालय में पाया जाना महत्वपूर्ण शीतोष्ण औषधी पादप है, जिसकी उच्च शीतोष्ण क्षेत्रों (2700 मी. से ऊपर) में वाणिज्यिक कृषि हेतु महत्वपूर्ण संभाव्यता है।

  मुशाकबला बहुगुणन हेतु बृहद-प्रसार तकनीक

वैलरियाना जटामांसी, जोन्स जिसे सामान्यतः मुशाकबला के नाम से जाना जाता है, यह पश्चिमी हिमालय में पाया जाने वाला एक महत्वपूर्ण शीतोष्ण औषधी पादप है तथा वाणिज्यिक कृषि हेतु महत्वपूर्ण संभाव्यता रखता है।

  देवदार निष्पत्रक (एक्ट्रोपिस देवदारे प्राउट) का एकीकृत कीट प्रबंधन

देवदार (सिडेरस देओदारा), उत्तर-पश्चिम हिमालय का एक अति मूल्यित एवं बहुल शंकु प्रजाति है, यह कुछ अंतरालों पर निष्पत्रक, इक्ट्रोपिस देओदारी प्राउट (लेपीडोप्टेरा: जिओमैट्रिडि) से प्रभावित होता है। यह प्रमुख नाशी-कीट देवदार वनों की अल्पवयस्क फसलों को गम्भीरता से प्रभावित करता है।

  बागवानी रोपण के साथ शीतोष्ण औषधीय पादपों का अंतरफसलीकरण

उच्च पहाड़ी शीतोष्ण क्षेत्रों के बागानों में अंतरालों का बेहतर उपयोजन किया जा सकता है तथा चुनिंदा वाणिज्यिक रूप से महत्वपूर्ण औषधीय पादपों के अंतरफसलीकरण से बागानों द्वारा आर्थिक लाभ की वृद्धि की जा सकती है।

Untitled Document